May 28, 2022

जनसंख्या पर निबंध, स्कूल के लिए सबसे अच्छा निबंध (Essay on Population in Hindi)

जनसँख्या किसी भी देश के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण विषय है. और जिस प्रकार जनसँख्या में दिन के दिन वृद्धि हो रही है यह किसी भी राष्ट्र के लिए बहुत ही चिंता का विषय बनता जा रहा है, जिसपर गुर करना बहुत ही ज़्यादा ज़रूरी हो गया है. बात करें भारत की तो जिस तेज़ी से यहां की जनसँख्या में वृद्धि हो रही है, यह देश बहुत ही जल्द सबसे ज़्यादा जनसँख्या वाला देश बन जाएगा. और यह सरकार के लिए एक बहुत ही ज़्यादा विचार करने वाला मुद्दा है.

जनसंख्या पर निबंध

किसी भी देश की जनसंख्या की समस्या संसाधनों के कारण उत्पन्न होती है. ज्यादातर राज्यों में संसाधनों की कमी के कारण लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. देशों द्वारा अलग-अलग समय पर विभिन्न जनसंख्या नियंत्रण उपायों को लागू किया गया है. जनसंख्या नियंत्रण विधियों को तैयार और कार्यान्वित किया गया है जिसमें जनसंख्या पर लोगों को शिक्षित करना और जन्म नियंत्रण के प्रभावी तरीके शामिल हैं. यहां हमने इस विषय पर आपके लिए एक निबंध पेश किया है, जो आपको बहुत ही मददगार साबित होगा.

जनसंख्या पर निबंध, स्कूल के लिए सबसे अच्छा निबंध (Essay on Population in Hindi)

क्योंकि जनसँख्या इन दिनों सबसे ज़्यादा विचार करने वाले विषयों में से एक है तो आये दिन छात्रों को इस विषय पर असाइनमेंट भी मिलता है. इस पोस्ट की मदद से हमने आपको जनसँख्या पर एक बहुत ही अच्छा निबंध उपलब्ध कराया है, जो आपको अच्छे अंक हासिल करने में मददगार साबित होगा.

जनसंख्या पर निबंध

प्रस्तावना : जनसंख्या इन दिनों एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है. ऐसा इसलिए है क्योंकि लगभग सभी देश जनसंख्या से संबंधित समस्याओं का सामना कर रहे हैं. ऐसी समस्याओं में निर्णयों को लागू करने में कठिनाई, सभी को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना और रोजगार सुनिश्चित करना शामिल है. जनसंख्या का सबसे महत्वपूर्ण पहलू जनसंख्या का दबाव है. जनसंख्या दबाव किसी देश में जनसंख्या द्वारा लगाया जाने वाला दबाव है. इसका मतलब है कि अर्थव्यवस्था और समाज को जनसंख्या का भार वहन करना होगा.

बढ़ती जनसंख्या से होने वाली समस्या : जनसंख्या में वृद्धि एक राज्य के लिए सभी को न्यूनतम आवश्यकताएं प्रदान करना कठिन बना देती है. हालाँकि, दुनिया भर के देशों में जनसंख्या दबाव की समस्या अलग है. दुनिया के धनी देशों में, जनसंख्या का दबाव उसके पास मौजूद धन के कारण प्रबंधनीय है. विकासशील देशों में, समय के साथ जनसंख्या में उल्लेखनीय वृद्धि देश के लिए खुद को स्थापित करना मुश्किल बना देती है.

इसका कारण यह है कि बढ़ी हुई जनसंख्या में अधिकांश ऐसे लोग हैं जो गरीब हैं और जिनके पास कोई शिक्षा या सामाजिक सुरक्षा नहीं है. उनके हितों की देखभाल करने के लिए देश व्यक्तिगत रूप से विकसित होने में विफल रहता है.

बढ़ती जनसँख्या के मुख्य कारण : देश की जनसंख्या दो कारकों-प्रवास और शिक्षा से प्रभावित है. जहां तक ​​प्रवासन का संबंध है, लोग अक्सर विभिन्न कारणों से एक देश से दूसरे देश में प्रवास करते हैं. छात्र अक्सर शिक्षा के लिए दूसरे देशों में चले जाते हैं. युवा अक्सर अपने काम के माध्यम से उन्नत देशों की ओर पलायन करते हैं. ऐसे व्यक्ति आमतौर पर अपने शेष जीवन के लिए ऐसे देशों में बस जाते हैं. उनके बसने का मुख्य कारण सामाजिक सुरक्षा और आय के अवसर हैं. अन्य सुविधाएं भी हैं जो प्रथम विश्व के देशों के लोगों को उनकी अर्थव्यवस्था से मिलती हैं.

सबसे अच्छा जनसंख्या पर निबंध

प्रवासित आबादी अक्सर ऐसी सुविधाओं को छोड़ना नहीं चाहती है. इससे जनसंख्या का दबाव बनता है. भारत जैसे देशों में प्राथमिक शिक्षा के अभाव में जनसंख्या में प्रतिवर्ष वृद्धि होती है. एकल परिवारों का विचार अभी गांवों में रहने वाले अधिकांश लोगों तक नहीं पहुंचा है. बहुत कम जगहों पर लोगों को अधिक बच्चे होने की समस्या के बारे में पता नहीं होता है. हालांकि, ऐसे लोगों के व्यायाम के पीछे उनका तर्क होता है.

घोर गरीबी के कारण, वे अक्सर सोचते हैं कि कई बच्चे होने से उनकी आर्थिक समस्याओं का समाधान हो जाएगा. उनकी ओर से यह विचार इस तथ्य से उपजा है कि उनके बच्चे बड़े होकर जीवन भर उनका भरण-पोषण करेंगे. लेकिन अक्सर वे यह पहचानने में विफल रहते हैं कि इससे पूरे देश पर बोझ पड़ता है. अक्सर विकासशील राष्ट्र अधिक जनसंख्या की समस्याओं और इसके परिणामों के बारे में जनता को शिक्षित करने के लिए कार्यक्रम चलाते हैं.

निष्कर्ष : बढ़ती जनसंख्या से निपटने का सबसे अच्छा तरीका जन्म नियंत्रण उपायों में शामिल होना है. इस तरह के उपायों में भारी मात्रा में सामाजिक नियंत्रण के साथ-साथ अन्य चिकित्सा उपकरण शामिल हैं जो किसी देश की जन्म दर को नियंत्रित करते हैं. चिकित्सा प्रक्रियाएं अक्सर जनसंख्या को नियंत्रित कर सकती हैं, लेकिन ऐसी प्रथाओं को अत्यधिक महत्व नहीं दिया जाता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि वे आमतौर पर किसी व्यक्ति के चिकित्सा अधिकारों पर विचार नहीं करते हैं, और ऐसी प्रक्रियाओं के दौरान मरने की संभावना अधिक होती है.

इसका सबसे अच्छा तरीका यही है की लोगों को जनसँख्या में वृद्धि होने के नुक्सान के बारे में बताया जाए. सख्त कानून भी इस चीज़ को लेकर बनने चाहिए. क्योंकि बहुत सी आबादी अभी भी ऐसी ही है जो न तो शिक्षित है, और न ही कुछ समझना चाहती है. इसीलिए अगर वे कानून का पालन नहीं करते हैं तो उनपर सख्त कारहवाही की जानी चाहिए.

पर्यायवाची शब्द की पूरी लिस्ट यहां क्लिक करें
प्रदूषण पर स्कूल या परीक्षा के लिए सबसे अच्छा निबंध यहां क्लिक करें
बेरोजगारी पर निबंध  यहां क्लिक करें
हिंदी दिवस कब मनाया जाता है और क्यों? यहां क्लिक करें

हम उम्मीद करते हैं की आपको यह निबंध ‘जनसंख्या पर निबंध’ पसंद आया होगा. कई अन्य तरह की जानकारियों को हासिल करने के लिए पेज के साथ बने रहें और अपना फीडबैक कमेंट सेक्शन के माध्यम से शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published.